content-cover-image

AAP नेता के लिए बधाई संदेश बना मुसीबत

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

AAP नेता के लिए बधाई संदेश बना मुसीबत

लोकसभा चुनावों के बाद एक बार फिर आम आदमी पार्टी के नेताओं के बीच टकराव की स्थितियां पैदा होती हुई नजर आ रही हैं. चांदनी चौक से विधायक अलका लांबा ने दावा किया है की उन्हें आम आदमी पार्टी विधायकों के व्हाट्सऐप ग्रुप से एक बार फिर से हटा दिया गया है. अलका ने दावा किया कि ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को पांचवें कार्यकाल के लिए मिली जीत पर उन्हें बधाई देने की वजह से उन्हें व्हाट्सऐप ग्रुप से हटा दिया गया. अलका के बयान के बाद जब आम आदमी पार्टी के अन्य लोगों ने इसके बारे में बातचीत करने की कोशिश की गई तो वह चुप्पी साधे हुए नजर आए. अलका लांबा ने कहा कि इस तरह का कदम आप नेतृत्व के लिये ठीक नहीं है. व्हाट्सऐप ग्रुप का स्क्रीनशॉट ट्विटर पर साझा करते हुए उन्होंने केजरीवाल की निंदा की और पूछा कि आखिर उन्हें ही क्यों लोकसभा चुनावों में मिली पार्टी की हार का जिम्मेदार ठहराया जा रहा है. इस स्क्रीनशॉट में यह साफ दिख रहा है कि उत्तर पूर्वी दिल्ली से आप के उम्मीदवार रहे दिलीप पांडे ने उन्हें हटाया है. पांडे ने हालांकि इस मामले में कोई जवाब नहीं दिया. यह दूसरी बार है जब लांबा को ग्रुप से हटाया गया है. इससे पहले ऐसा पिछले साल दिसंबर में हुआ था जब उन्होंने भूतपूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दिए गए भारत रत्न सम्मान को रद्द करने के पार्टी के प्रस्ताव पर आपत्ति जतायी थी. हालांकि लोकसभा चुनाव प्रचार से पहले उन्हें ग्रुप में शामिल कर लिया गया था.

Show more
content-cover-image
AAP नेता के लिए बधाई संदेश बना मुसीबत मुख्य खबरें