content-cover-image

SC का आदेश, Yogi पर Tweet करना नहीं है अपराध

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

SC का आदेश, Yogi पर Tweet करना नहीं है अपराध

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जुड़ा ट्वीट करने के मामले में गिरफ्तार पत्रकार प्रशांत कनौजिया को तुरंत जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया है. कोर्ट ने कहा है कि महज एक सोशल मीडिया पोस्ट के लिए किसी शख्स को लंबे समय तक न्यायिक हिरासत में नहीं भेजा सकता. ये कोई संगीन अपराध नहीं है. मामले की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा, ‘’किसी भी नागरिक की आजादी के साथ समझौता नहीं किया जा सकता. संविधान इसकी गारंटी देता है और इसका हनन नहीं हो सकता.’’ इसके साथ ही कोर्ट ने कहा है कि वह प्रशांत के ट्वीट का समर्थन नहीं करता है, लेकिन उनकी 22 जून तक न्यायिक हिरासत का मैजिस्ट्रेट द्वारा दिया गया आदेश उचित नहीं है. बता दें कि प्रशांत की गिरफ्तारी के खिलाफ उनकी पत्नी जगीशा ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था. इस याचिका पर जस्टिस इंदिरा बनर्जी और जस्टिस अजय रस्तोगी की वेकेशन बेंच ने सुनवाई की.

Show more
content-cover-image
SC का आदेश, Yogi पर Tweet करना नहीं है अपराधमुख्य खबरें