content-cover-image

जब वायुसेना प्रमुख ने अपनी वर्दी से निकालकर दिए विंग्स

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

जब वायुसेना प्रमुख ने अपनी वर्दी से निकालकर दिए विंग्स

हैदराबाद के पास डुंडीगल की वायुसेना अकादमी से बेहद मुश्किल ट्रेनिंग पासकर भारतीय वायुसेना में फ्लाइंग ऑफिसर बने जी नवीन कुमार रेड्डी के लिए शनिवार 15 जून 2019 का दिन बेहद खास था. उन्हें दुनिया की सबसे बड़ी वायुसेनाओं में से एक भारतीय वायुसेना के प्रमुख ने अपनी वर्दी से अपने विंग्स निकालकर उन्हें पहनाए. भारतीय सेना के एक सूबेदार (JUNIOR COMMISSIONED OFFICER) के इकलौते बेटे के लिए ये एक ज़िंदगी भर याद रखने वाला पल था, जिसे वायुसेना के अपने पूरे कैरियर में वे गर्व से याद करेंगे. विंग्स किसी कैडेट को तब मिलते हैं जब वो वायुसेना में कमीशन पाता है. इसे वर्दी के सामने पहना जाता है. वायुसेना प्रमुख बीएस धनोवा सितंबर में रिटायर हो रहे हैं. उन्होंने अपने विंग्स युवा अधिकारी को पहनाते हुए कहा, "मैं सितंबर में अपनी वर्दी उतार रहा हूं तो मेरे विंग्स एक युवक के लिए दे रहा हूं ताकि वो फ्लाइंग की चुनौतियों और कसौटियों पर खरा उतर सके." फ्लाइंग ऑफिसर जी नवीन कुमार रेड्डी ने वायुसेना अकादमी के इस बैच में स्वॉर्ड ऑफ ऑनर (SWORD OF HONOUR) जीती है. ये सम्मान उस कैडेट को मिलता है जिसने पूरी ट्रेनिंग के दौरान हर क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया हो. इसमें राष्ट्रपति की तरफ से सम्मान पट्टिका (PLAQUE) के साथ वायुसेना प्रमुख के हाथों एक तलवार मिलती है. लेकिन फ्लाइंग ऑफिसर रेड्डी को इसके साथ जो मिला उसकी किसी ने कल्पना नहीं की थी.

Show more
content-cover-image
जब वायुसेना प्रमुख ने अपनी वर्दी से निकालकर दिए विंग्समुख्य खबरें