content-cover-image

तीन साल बाद रिहा हुई गलती से गिरफ्तार महिला

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

तीन साल बाद रिहा हुई गलती से गिरफ्तार महिला

59 साल की महिला को डिटेंशन कैंप यानी नजरबंद शिविर से तीन साल बाद रिहा किया गया। उन्हें विदेशी घोषित करते हुए गिरफ्तार किया गया था। असम पुलिस ने माना कि यह गलत पहचान का मामला है और उन्हें गलती से पकड़ा गया था। चिरांग जिले के पुलिस अधीक्षक सुधाकर सिंह के अनुसार मधुबाला मंडल को साल 2016 में असम पुलिस ने पकड़ा और पड़ोस के कोकराझार में स्थित डिटेंशन कैंप में भेज दिया। असम में इस समय 100 विदेश ट्रिब्यूनल हैं। एक अर्ध-न्यायिक निकाय जो नागरिकता निर्धारित करते हैं। वर्तमान में 1000 लोगों को विदेशी घोषित किया गया है जो राज्य में स्थित छह डिटेंशन केंद्र में रह रहे हैं।

Show more
content-cover-image
तीन साल बाद रिहा हुई गलती से गिरफ्तार महिलामुख्य खबरें