content-cover-image

Special : IIT Students ने दिया बिना हाथ वालों को हाथ, आसान बनेगा जीवन

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Special : IIT Students ने दिया बिना हाथ वालों को हाथ, आसान बनेगा जीवन

कहते हैं बिना हाथ वालों की भी तकदीर होती है, लेकिन नहीं होती है तो दोनों हाथ वालों की तरह वो तमाम सहूलियतें. ये बात तो इन बच्चों के परिवारवाले ही जानते होंगे. लेकिन आईआईटी गांधीनगर के इन संवेदनशील छात्रों ने ऐसे हाथ बनाए हैं जो वाइस कमांड देने भर से बिना हाथ वालों की खाना खाने में मदद करेंगे. आईआईटी के छात्रों का बनाया ये उपकरण virtual assistant , Alexa पर बोलते ही शुरू हो जाएगा. कमांड पर ये चम्मच की सहायता से थाली में रखे भोजन को उठाकर व्यक्ति के मुंह तक ले जाएगा. इस उपकरण को पेटेंट कराने के लिए छात्रों ने भेज दिया है. उन्हें उम्मीद है कि जल्द ही यह उपकरण बाजार में आम लोगों के लिए उपलब्ध होगा. आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित ये उपकरण एलेक्सा से सीधा जुड़ा है. वर्चुअल असिस्टेंट एलेक्सा के इस बेहतर इस्तेमाल से इसे दुनिया भर में और भी पहचान मिल सकती है. पहले से ही वाइस कमांड पर चलने वाला ये असिस्टेंट कुछ ही समय में दुनिया भर में मशहूर हो चुका है. इसे बनाने वाले आईआईटी गांधीनगर के छात्र क्रिस फ्रांसिस और प्रवीण वेंकटेश ने पीटीआई को बताया कि उनका फूड बडी नामक उपकरण एलेक्सा के जरिये आवाज की कमांड लेगा. फिर उपकरण में लगे बटन को स्टार्ट करते ही वह शुरू हो जाएगा. उपकरण को स्टार्ट के अलावा बीच में ही रोका यानी रिज्यूम जा सकता है. फ्रांसिस आईआईटी से कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे हैं, वहीं वेंकटेश इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग के छात्र हैं. इनका कहना है कि जिनके हाथ काम नहीं करते हैं, उन्हें खाना खाने के लिए भी हेल्प लेनी पड़ती है. सामान्य तौर पर परिवार का कोई सदस्य, दोस्त या सेवा देने वाला कोई कर्मी ऐसे व्यक्ति को खिलाता है, लेकिन कभी-कभी देखरेख करने वालों के दूर रहने से समस्या पैदा हो जाती है. ये फूड बडी उपकरण थाली में रखे भोजन को चम्मच की सहायता से उठाने और मुंह तक ले जाएगा. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इस तरह के उपकरण काफी महंगे हैं. इसलिए उन्होंने अपने उपकरण में सस्ते और बेहतर गुणवत्ता वाले पुर्जे के अलावा अत्याधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया है, जिससे उपकरण की कीमत में काफी कम और आम लोगों के बजट में होगी. फिलहाल इसकी कीमत पेटेंट के बाद ही तय की जा सकेगी.

Show more
content-cover-image
Special : IIT Students ने दिया बिना हाथ वालों को हाथ, आसान बनेगा जीवनमुख्य खबरें