content-cover-image

Spl: क्या है धारा 370 और Article 35A, क्यों है इतना बवाल ?

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Spl: क्या है धारा 370 और Article 35A, क्यों है इतना बवाल ?

कश्मीर में जो खून बह रहा है, उसकी एकमात्र वजह है कश्मीर को दिया गया विशेष दर्जा।।।। कश्मीर को ये स्पेशल स्टेटस हमारे ही संविधान के आर्टिकल 370 जिसे आप धारा 370 कहते हैं, और आर्टिकल 35A से मिलता है. आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35A की वजह से जम्मूकश्मीर के बाहर का कोई भारतीय नागरिक जम्मू कश्मीर में ज़मीन खरीद के रह नहीं सकता। अगर कश्मीर के लोगों को भारत में कहीं भी रहने का अधिकार है, तो इसी तरह का अधिकार भारत को भी मिलनी चाहिए। आज यही मांग हम आप सबके सामने उठा रहे हैं क्युकी कश्मीर का कोई भी नागरिक भारत के किसी भी राज्य, किसी भी इलाके में, किसी भी शहर में घर खरीद सकता है, प्रॉपर्टी ले सकता है, वहाँ पर रह सकता है, काम कर सकता है. लेकिन भारत का कोई भी नागरिक कश्मीर में ज़मीन लेके रह नहीं सकता, जम्मू कश्मीर को दिया गया यही स्पेशल स्टेटस आर्टिकल 370 और आर्टिकल 35A ही कश्मीर में अलगाववाद की जड़ है. अगर अलगाववाद की इस जड़ पे प्रहार करना है तो इन धाराओं को ख़त्म करना ही होगा। संविधान के ये दोनों आर्टिकल भारत की एकता और अखंडता पे एक गहरा घाव है. 14 मई 1954 को तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने एक आदेश पारित किया था, इस आदेश के ज़रिये भारत के संविधान में एक नया अनुच्छेद 35(A) जोड़ दिया गया.आमतौर पर कोई भी अनुच्छेद बिना संसोधन के नहीं जुड़ता है और इसके लिए संविधान में आर्टिकल ३६८ का प्रावधान है. इसी आर्टिक्लेका इस्तेमाल करके संसद संविधान में संशोधन कर सकती है लेकिन आर्टिकल 35(A) के सम्बन्ध में ऐसा कुछ नहीं हुआ क्युकी तत्कालीन प्रधानमन्त्री जवाहर लाल नेहरू की सरकार ने इसे संसद के सामने रखा ही नहीं, बल्कि सीधे राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने PRESIDENTIAL आर्डर के ज़रिये इसे लागू कर दिया।

Show more
content-cover-image
Spl: क्या है धारा 370 और Article 35A, क्यों है इतना बवाल ?मुख्य खबरें