content-cover-image

मंगलागौरी के साथ शिवरात्रि, बन रहा है विशेष संयोग

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

मंगलागौरी के साथ शिवरात्रि, बन रहा है विशेष संयोग

मंगलागौरी के साथ आज सावन की शिवरात्रि भी है। यह संयोग शिवभक्तों के लिए बहुत लाभकारी है। इस संयोग पर शिवालयों में श्रद्धालुओं की काफी भीड़ देखने को मिल रही है। साथ ही कांवड़ियों की भीड़ भी लौटी। सबसे अधिक भीड़ सिद्धपीठ श्री दूधेश्वरनाथ मठ मंदिर में देखने को मिली, जहां हाजिरी व प्रदोष का जल चढ़ाने का सिलसिला लगतार अभी तक रही है। बताया जा रहा है कि दूधेश्वरनाथ मंदिर में करीब 5 लाख कांवड़िये आज शिवरात्रि के अवसर पर जलाभिषेक करेंगे, जो बुधवार तक चलेगा। मंदिर में हाजिरी व सावन शिवरात्रि का जल सुबह छह बजे से चढ़ना शुरू हो गया है, लेकिन जलाभिषेक करने का सिलसिला सोमवार रात 12 बजे के बाद ही शुरू हो गया था। हर हर महादेव, बोल बम व दूधेश्वर भगवान के जयकारों के बीच कांवड़ियों व श्रद्धालुओं ने भगवान दूधेश्वर का गंगाजल से अभिषेक किया और बेल पत्र, फल आदि अर्पित कर उनकी पूजा-अर्चना कर रहे हैं। हम आपको बता दें कि इस दिन का सबसे अच्छा मुहूर्त 9:10 बजे से 2:00 बजे तक है। इस बीच आप शिव की पूजा कर सकते हैं और उन्हें प्रसन्न कर सकते हैं। शिवरात्रि पर शिव चालीसा, शिव पुराण, रुद्राष्टक का पाठ, रुद्राक्ष माला से महामृत्युंज्य मंत्र का जाप करने से अत्यंत फल मिलता है। सभी भक्तजन शिवलिंग का जल अथवा दूध से अभिषेक कर पुण्यार्जन करते हैं और पूरा दिन व्रत रखते हैं। इस दिन भगवान शिव का विशेष पूजन, अर्चन और स्तवन किया जाता है। सौभाग्य की प्राप्ति के लिए शादीशुदा महिलाएं और कुंवारी कन्याएं इस व्रत को करती हैं। एक ही दिन शिवरात्रि और मां मंगला गौरी व्रत पड़ने से इस दिन पूजा-अर्चना से विशेष लाभ प्राप्त हो सकता है।

Show more
content-cover-image
मंगलागौरी के साथ शिवरात्रि, बन रहा है विशेष संयोगमुख्य खबरें