content-cover-image

Triple Talaq Case: एक देश में दो कानून कैसे

मुख्य खबरें

00:00

ट्रेंडिंग रेडियो

Triple Talaq Case: एक देश में दो कानून कैसे

Hindi News बंद करें ज़ी न्यूज़ में सर्च करें Mobile Reporter होम लाइव टीवी वीडियो फोटो देश प्रदेश दुनिया स्पोर्ट्स बिज़नेस बॉलीवुड टेक साइंस हेल्थ ज़ी स्पेशल भविष्यफल लोकसभा चुनाव CONTACT US PRIVACY POLICY LEGAL DISCLAIMER COMPLAINT INVESTOR INFO CAREERS WHERE TO WATCH PARTNER SITES: ZEE NEWS MARATHI NEWS BENGALI NEWS TAMIL NEWS MALAYALAM NEWS GUJARATI NEWS TELUGU NEWS KANNADA NEWS WION DNA ZEE BUSINESS मोर ऍप्स हमसे जुड़े तलाक: 'हिंदुओं के लिए 1 और मुस्लिमों के लिए 3 साल की सजा, 1 देश में दो कानून कैसे?' Written By: ज़ी न्यूज़ डेस्क | Updated: Jul 31, 2019, 15:06 PM IST तलाक: 'हिंदुओं के लिए 1 और मुस्लिमों के लिए 3 साल की सजा, 1 देश में दो कानून कैसे?' तीन तलाक बिल के संसद के दोनों सदनों में पास होने के बाद ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) समेत मुस्लिमों का एक पक्ष इसका विरोध कर रहा है. नई दिल्‍ली: तीन तलाक बिल के संसद के दोनों सदनों में पास होने के बाद ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (AIMPLB) समेत मुस्लिमों का एक पक्ष इसका विरोध कर रहा है. इसी सिलसिले में मुस्लिम विद्वान साजिद रशीदी ने कहा कि मुस्लिम या मुस्लिम संगठन बिल के खिलाफ नहीं थे. लेकिन इसमें कई खामियां हैं. नए कानून के तहत मुस्लिम महिलाओं को मजिस्‍ट्रेट के समक्ष साबित करना होगा कि उनको तीन तलाक दिया गया है. ये इस बिल का कमजोर पक्ष है. इसी तरह व्‍यक्ति के जेल जाने के बाद मजिस्‍ट्रेट तय करेगा कि बच्चों के लालन-पालन का कौन जिम्मेदार होगा (चल अचल संपत्ति को देखकर)? सरकार ने लालन-पालन के लिए कोई प्रावधान नहीं रखा है. बिल में इसको आपराधिक मामला माना गया है जबकि यह सिविल मैटर है. इसके साथ ही कहा कि हिंदू आदमी तलाक देता है तो उसको 1 साल की सजा का प्रावधान है लेकिन यदि मुसलमान तलाक देगा तो उसको 3 साल की सजा होगी. एक देश में दो कानून कैसे हो सकते हैं?

Show more
content-cover-image
Triple Talaq Case: एक देश में दो कानून कैसेमुख्य खबरें